menu search
brightness_auto
more_vert
Hindi meaning of Poem तू बुद्धि दे तू तेज दे
thumb_up_off_alt 0 like thumb_down_off_alt 0 dislike

1 Answer

more_vert
 
verified
Best answer
प्रार्थना 'तू बुद्धि दे' कवि 'गुरु ठाकुर' द्वारा लिखी गई है। इस प्रार्थना में कवि ने सन्मार्ग, सन्मति और सत्संगती के महत्व को बताया है। कवि ने इस प्रार्थना के माध्यम से सत्य की गर्दन को सदा धारण करके संवेदनशीलता को बनाए रखने की शक्ति प्राप्त करने की, अनाथों के पिता बनने की शक्ति प्राप्त करने और इस शाश्वत सौंदर्य के प्रति आसक्त रहने की शक्ति प्राप्त करने की इस भावना को व्यक्त किया है।

यह एक प्रार्थना है जिसे नियमित रूप से पढ़ा जाना चाहिए। कवि कहता है, हे भगवान, हमें ज्ञान दो। आप नए विचारों की चमक देते हैं। अपने भीतर एक नई चेतना जगाने के लिए भरोसा रखें। इस धरती पर जो सत्य है वह सुंदर है। जो कुछ भी शाश्वत है, जो सभी स्थानों में भरा हुआ है, उसका जुनून जीवन भर मेरे मन में बना रहे। अर्थात् जो सदा सत्य और सुन्दर है, उसका मुझे ठीक से पालन करना चाहिए। साथ ही इसी तरह के इनोवेशन का जुनून मेरे दिल में हमेशा बना रहे।

तुम उन लोगों के साथी बनो जिनका कोई संरक्षक नहीं है, जिनका कोई संरक्षक नहीं है, जिनके पास कोई प्यारा आकाश नहीं है। उन्हें आश्रय देने का काम करें। उन्हें माया की छाया देने का काम करो। जो जीवन पथ पर यात्रा करते हुए खो जाते हैं, जिन्हें जीवन का अर्थ नहीं मिलता, आप सारथी बन जाते हैं और रास्ता दिखाने का काम करते हैं। जो आपकी पूजा करते हैं, जो आपसे लगातार प्रार्थना करते हैं। उन्हें अपनी कंपनी लगातार दें। यानी आप हमेशा उनके साथ रहें।

मेरे शरीर की दरारों में लगातार इंद्रियों को जलाने का काम करो, जो इस दुनिया में कमजोर लोगों के दर्द और पीड़ा को जानने के लिए करते हैं। मेरी इन्द्रियों को सदा जाग्रत रखने का कार्य करो। मेरे शरीर की हर धमनी में बहने वाले रक्त में पीड़ित के कष्ट निवारण की आशा हो। मैं आपके सामने यह मौखिक कविता प्रस्तुत करता हूं। उन सभी शब्दों को और मेरे पूरे जीवन को किसी तरह का अर्थ दो। जिससे मेरा जन्म दुर्बलों के कष्ट निवारण में उपयोगी हो।

मेरे पास हमेशा एक अच्छा मार्ग और अच्छी बुद्धि हो। आपके पास हमेशा अच्छे, सज्जन लोगों की संगति हो। मेरा संकल्प बना रहे कि मेरे जीवन में चाहे कितनी भी मुसीबतें क्यों न आएं, मैं अपने कर्तव्य से कभी विचलित नहीं होऊंगा। मेरा आचरण कभी भ्रष्ट न हो। इन पंखों को जीवन पथ पार करने की शक्ति दो। सदा सत्य से चिपके रहो और संवेदनशीलता को बचाए रखने की शक्ति दो और आकाश में ऊंची उड़ान भरो। अर्थात् सौन्दर्य की कामना मेरे मन में निरन्तर बनी रहे और उस इच्छा को पूरा करने के लिए एक नया आकाश यानि आकाश के समान एक नई शाम का निर्माण करें, जिसमें मैं अपनी उपलब्धियां दिखा सकूं।
thumb_up_off_alt 0 like thumb_down_off_alt 0 dislike

Related questions

thumb_up_off_alt 0 like thumb_down_off_alt 0 dislike
1 answer
thumb_up_off_alt 0 like thumb_down_off_alt 0 dislike
1 answer
thumb_up_off_alt 0 like thumb_down_off_alt 0 dislike
1 answer
thumb_up_off_alt 0 like thumb_down_off_alt 0 dislike
1 answer
thumb_up_off_alt 0 like thumb_down_off_alt 0 dislike
1 answer

4.8k questions

4.3k answers

67 comments

387 users

...