menu search
brightness_auto
more_vert
छाया मत छूना' कविता की पंक्ति ‘जितना ही दौड़ा तू, उतना ही भरमाया' का क्या आशय है?
thumb_up_off_alt 500 like thumb_down_off_alt 0 dislike

1 Answer

more_vert
 
verified
Best answer
कविता 'छाया मत छूना' में कवि 'गिरिजा कुमार माथुर' द्वारा रचित ये पंक्ति 'जितना ही दीड़ा तू, उतना जितना ही अधिक धन, दौलत, सुख-ऐश्वर्य व मान-सम्मान पाने के लिए भाग-दौड़ करता है अर्थात प्रयत्न करता है उतना ही अधिक ये चीज़े उसे भरमाती हैं। मृगतृष्णा के समान उससे दूर भागती रहती हैं। ये मानव को जीवन पर्यंत छलती रहती हैं। कभी व्यक्ति इन्हें पाने के लिए दुखी रहता है और कभी इनके न मिलने पर दुखी रहता है। ये चीजें मानव को जीवन भर अपने पीछे दौड़ाती रहती हैं।
thumb_up_off_alt 500 like thumb_down_off_alt 0 dislike

Related questions

thumb_up_off_alt 500 like thumb_down_off_alt 0 dislike
1 answer

5.2k questions

4.7k answers

75 comments

393 users

...